जीवन में सफल होना है तो, अपना कार्य स्वयं करे।

Write by: Chandan Jat | 13 June 17
​किसी और से केवल राय ली जा सकती है, लेकीन जीवन में सफलता किसी और के भरोसे हासील नही की जा सकती।

अगर मनचाहा मुक़ाम हासील करना है तो अपनी लड़ाई ख़ुद लड़ो, यानी अपना मुल कार्य ख़ुद करो। कोई और केबल राय दे सकता है या ज़्यादा क़रीबी है तो धन की मदद कर सकता है, इसके अलावा कुछ नही कर सकता। जब हमें आगे बढना है तो अपने काम को हमें ही करने होगे, अगर किसी और पर निर्भर रहेंगे तो, सफल होने की बहुत ही कम उम्मीद है। जो भी ज़रूरी काम है स्वयं करे या सही शब्दों में कहै तो अपने कार्य के मास्टर स्वयं बनें। दुनीया में हर कार्य से जुड़े हज़ारों लोग है जिनको हायर किया जा सकता है, अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए लेकीन शुरूवात स्वयं को ही करनी होगी, शुरूवात किसी के भरोसे या किसी और पर निर्भर रहकर करेंगे तो पूरी जिन्दगी दुसरों पर ही निर्भर रहना पड़ेगा, और जब किसी पर निर्भर रहेंगे तो, कोई बाहर भी हो सकता है या हमें बाहर भी कर सकता है। जिवन में कुछ करने का निर्णय किया है! तो उन सब कार्य को स्वयं सिखे जो मुल कार्य है, चाहै वह कितना ही मुश्किल कार्य क्यों न हो। जब हमें अपने कार्य की जानकारी होगा तो सफल होने से हमें कोई रोक नही सकता। जब हमें अपने कार्य की जानकारी होगी तो किसी और से हमारा कार्य ज़्यादा आसानी से करवाया जा सकता है, और जब हमें जानकारी नही होगी तो छोटे से छोटा कार्य भी करवाना मुश्किल हो सकता है।

सबसे ज़रूरी एक ही काम, की पहले अपना काम ख़ुद करे।
जब अपने मुल कार्य की जानकारी होगी तो, अपने जिवन की गाड़ी अपने कन्ट्रोल में होगी॥